छह दिन बाद पता चला डाक्टर रीना की मौत का कारण, सामने आई चौंकाने वाली पोस्टमार्टम रिपोर्ट

Updated on: 20 November, 2019 01:42 PM

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर रीना की मौत के छह दिन बाद सोमवार को उनकी मौत का कारण पता चला। डाक्टर रीना की चौंकाने वाली पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आ गई। डाक्टर रीना के सीढी से गिरकर मरने की बात ससुरालियों ने पहले कही थी। बाद में सीसीटीवी फुटेज में छत से गिरते हुए डाक्टर रीना दिखाई दी थीं। अब उनके शरीर पर चोट के इतने ज्यादा निशान मिले हैं कि परिजन हैरान हैं।

डॉक्टर रीना के शरीर पर 13 चोट के निशान मिले हैं। मौत का कारण अधिक खून बहना बताया गया है। पहले दिन से मामले में लीपापोती कर रही पुलिस ने पूरी पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी छिपाने की कोशिश की है। उसने यह नहीं बताया कि डाक्टर रीना के शरीर पर कहां-कहां चोट लगी है।पुलिस सूत्रों के अनुसार डॉ. रीना सिंह के पैर टूटने की बात भी सामने आई है। जबकि सीसीटीवी फुटेज में छत से गिरते समय रीना का कमर सबसे पहले जमीन से टकराया था।

कैंट थाना क्षेत्र के टैगोर टाउन कॉलोनी में दो जुलाई को डाक्टर रीना की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। ससुराल के लोगों ने बताया कि सीढ़ी से गिरकर मौत हुई है। बाद में सीसीटीवी फुटेज से छत से गिरते रीना दिखाई दी थीं। इसके बाद शव का दोबारा पोस्टमार्टम कराया गया।रीना के पिता रंगनाथ सिंह ने फुटेज के आधार पर पति डॉ. आलोक सिंह, ससुर डॉ. ज्ञान प्रकाश सिंह व सास सावित्री सिंह के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कराया है।

सीओ कैंट डॉ. अनिल कुमार ने दावा किया कि पहले अौर दूसरे पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की एक ही वजह बताई गई है। अब यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि डॉ. रीना के शरीर पर आई चोट गिरने से ही लगी या कोई और भी कारण है। इसके अलावा टैगोर टाउन स्थित डॉ. रीना व डॉ. आलोक के घर को सील कर दिया गया है। इससे कोई साक्ष्य इधर से उधर ना किया जा सके। वहीं मौके से बरामद सुसाइड नोट की हैंडराइटिंग मिलान करने के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद काफी हद तक स्थिति साफ हो जाएगी।  

पीएम को पत्र लिखकर सीबीआई जांच की मांग
डॉ. रीना के पिता रंगनाथ सिंह ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा। उन्होंने कैंट पुलिस की जांच पर असंतोष जाहिर किया। साथ ही डॉ. आलोक सिंह को बचाने के लिए बहनोई आईएएस अधिकारी एमपी सिंह, जिले के एक प्रशासनिक अधिकारी और एक राज्यमंत्री पर विवेचना प्रभावित करने व पुलिस पर दबाव बनाने का आरोप लगाया। उन्होंने पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है।

मोबाइल बरामदगी पर भी परिजनों का सवाल
परिजनों ने सोमवार को मोबाइल बरामदगी पर भी सवाल खड़े किये। उनका कहना था कि दो जुलाई को जब पुलिस व फारेंसिक टीम घर की तलाशी ले रही थी तो कहीं पर भी मोबाइल नहीं मिला। घटना के चार दिन बाद पुलिस को घर में मोबाइल मिल जाता है। ऐसे में आशंका है कि मोबाइल से छेड़छाड़ करके घर में रखा गया हो।

एडीजी से मुलाकात कर रखी बात
मामले में डॉ. रीना सिंह के पिता रंगनाथ सिंह, चाचा व भाई एडीजी बृजभूषण से मिले। उन्होंने एडीजी को सीसी कैमरे की फुटेज के साथ ही कई साक्ष्य प्रस्तुत किये। इसके बाद एडीजी ने एसएसपी से बात की और सारे साक्ष्यों की सही से जांच कराने का निर्देश दिया। इसके बाद एसएसपी के आदेश पर इंस्पेक्टर कैंट राजीव सिंह ने डॉ. आलोक सिंह का घर सील कर दिया है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया