ट्रिपल तलाक बिल पर लोकसभा में चर्चा आज, UPA के सभी दल करेंगे विरोध

Updated on: 14 November, 2019 06:05 PM

केंद्र सरकार ने लोकसभा में आज तीन तलाक विधेयक पर चर्चा के बाद उसे पारित किए जाने के लिए सूचीबद्ध किया है। आधिकारिक सूत्रों ने भाषा को बताया कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने अपने सांसदों को इसके लिए व्हिप जारी किया है और उनसे सदन में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करने को कहा है। विधेयक में एक साथ, अचानक तीन तलाक दिए जाने को अपराध करार दिया गया है और साथ ही दोषी को जेल की सजा सुनाए जाने का भी प्रावधान किया गया है। नरेन्द्र मोदी सरकार ने मई में अपना दूसरा कार्यभार संभालने के बाद संसद के इस पहले सत्र में सबसे पहले इस विधेयक का मसौदा पेश किया था। वहीं, कांग्रेस पार्टी ने राज्यसभा में अपने सभी सांसदों को उपस्थित रहने के लिए व्हिप जारी किया है। इसके अलावा संसद में बीजेपी सांसद सरोज पांडे, अजय प्रताप सिंह और एनसीपी सांसद वंदना चव्हाण ने शून्यकाल नोटिस दिया है।


कांग्रेस सांसद के सुरेश ने कहा, बिना विपक्ष की जानकारी के बीती रात को उन्होंने (सरकार) तीन तलाक बिल को आज चर्चा के लिए रखा है। जबकि आज राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग विधेयक और डीएनए प्रौद्योगिकी (उपयोग और अनुप्रयोग) विनियमन विधेयक पर चर्चा होनी थी।

कांग्रेस ने यूपीए के सभी सहयोगियों से बात की है और वे सभी आज लोकसभा में ट्रिपल तालक बिल का विरोध करने के लिए सहमत हो गए हैं।

लोकसभा में आज तीन तलाक विधेयक पर चर्चा के बाद उसे पारित किए जाने की संभावना है। आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को बताया कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने अपने सांसदों को इसके लिए व्हिप जारी किया है और उनसे सदन में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करने को कहा है। विधेयक में एक साथ, अचानक तीन तलाक दिए जाने को अपराध करार दिया गया है और साथ ही दोषी को जेल की सजा सुनाए जाने का भी प्रावधान किया गया है। नरेन्द्र मोदी सरकार ने मई में अपना दूसरा कार्यभार संभालने के बाद संसद के इस पहले सत्र में सबसे पहले इस विधेयक का मसौदा पेश किया था।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया