कश्मीर के हालात पर शेहला रशीद के दावों को भारतीय सेना ने किया खारिज, बताया- बेबुनियाद

Updated on: 14 November, 2019 05:29 AM

जेएनयू की पूर्व छात्र नेता और जेनएनयूएसयू की पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद ने रविवार को कश्मीर के हालत को लेकर 10 ट्वीट किए जिसमें उन्होंने दावा किया कि घाटी में मौजूदा हालात बहुत खराब है। लेकिन उनके दावों की हवा भारत सेना ने कुछ घंटों में निकाल दी। भारतीय सेना ने उनके दावों को खारिज किया है और उन्हें बेबुनियाद बताया है।
शेहला रशीद ने ट्वीट करके कहा था कि जम्मू-कश्मीर के लोगों का कहना है कि पुलिस के पास कानून-व्यवस्था का कोई अधिकारी नहीं है और सब कुछ पैरामिलिट्री फोर्स के हाथों में है। एक एसचओ का ट्रांसफर सिर्फ इसलिए कर दिया गया क्योंकि सीआरपीएफ के एक जवान ने शिकायत की थी। इतना ही नहीं शेहला ने अपने ट्वीट पर आरोप लगाया कि सुरक्षाबल रात में घर में घुसते हैं और लड़कों को उठाकर ले जाते हैं।

इतना ही नहीं जेएनयू की छात्रा का कहना है शोपिया के आर्मी कैंप में चार लोगों को ले जाकर पूछताछ के नाम पर टॉर्चर किया गया। शेहला के इस सभी दावों को भारतीय सेना ने खंडन किया है। सेना ने कहा है कि ऐसी असत्यापित और फर्जी खबरें असामाजिक तत्वों और संगठनों द्वारा लोगों को भड़काने के लिए फैलाई जा रही है।
जम्मू में धारा 144 लागू लागू नहीं : अधिकारी

जम्मू में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने सीआरपीसी की धारा 144 को फिर से लागू करने की अफवाहों का खंडन किया है। यह धारा एक स्थान पर चार से ज्यादा लोगों के जमा होने पर रोक लगाती है। अधिकारी ने साथ ही जम्मू में स्कूलों के बंद होने से इनकार किया और कहा कि जिले में हालात पूरी तरह सामान्य हैं। जिले के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, धारा 144 को फिर से लागू करने व स्कूलों के बंद करने की अफवाह पूरी तरह निराधार है। जम्मू जिले के किसी भी हिस्से से किसी तरह की अवांछित घटना की सूचना नहीं है।

जम्मू के पुलिस महानिरीक्षक मुकेश सिंह ने भी हालात को स्पष्ट करते हुए बयान जारी किया। उन्होंने कहा, राजौरी या गुज्जर नगर में कुछ घटनाओं के संदर्भ में अफवाहें फैलाई जा रही हैं। जम्मू में हड़ताल के संदर्भ में अफवाहें फैलाई जा रही हैं, जिसकी वजह से पेट्रोल पम्पों पर लंबी कतारें हैं...इस तरह की अफवाहें झूठी हैं।

सिंह ने कहा, इस तरह की कोई घटना नहीं हुई जैसा कि कहा जा रहा है। 2जी नेटवर्क अस्थायी रूप से कुछ तकनीकी वजहों से डिस्कनेक्ट किया गया है, जिसे सुधारा जा रहा है और जल्द से जल्द कनेक्टिविटी बहाल करने के प्रयास जारी हैं। उन्होंने यह भी कहा कि अफवाह फैलाने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया