कश्मीर पर पाकिस्तान का प्रोपेगेंडा जारी, विदेश मंत्री कुरैशी ने ब्रिटिश सांसदों से की बात

Updated on: 18 November, 2019 11:26 PM

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने मंगलवार को ब्रिटेन के सांसदों के पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की और उन्हें कश्मीर मुद्दे के बारे में अवगत कराया। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने कहा कि कुरैशी ने कश्मीर में भारत के ''अवैध कार्यों के बारे में प्रतिनिधिमंडल को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की हाल में ''बंद कमरे में चर्चा इस बात का प्रमाण है कि यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्य मुद्दा है।

भारत द्वारा जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को समाप्त करने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है। भारत ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से स्पष्ट रूप से कह दिया है कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर खंडों को समाप्त करना उसका आंतरिक मामला था। भारत ने साथ ही पाकिस्तान को वास्तविकता स्वीकार करने की सलाह भी दी है।

पाकिस्तान के विदेशमंत्री ने यह भी दावा किया कि भारत के कदम दक्षिण एशिया में पहले से अस्थिर स्थिति के लिए गंभीर खतरा है और इसके गंभीर प्रभाव हो सकते हैं। कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान यह सुनिश्चित करने के लिए हर मंच पर जाएगा कि मुद्दे का समाधान कश्मीरियों की आकांक्षाओं और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के अनुरूप हो। उन्होंने जम्मू कश्मीर मुद्दे को रेखांकित करने में ब्रिटेन के सांसदों के प्रयासों की सराहना की।

प्रतिनिधिमंडल ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के राष्ट्रपति मसूद खान से अलग से मुलाकात की और बाद में मीडिया को संबोधित भी किया। प्रतिनिधिमंडल ने पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से भी मुलाकात की।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया