वेतन के लिए सड़क पर उतरे बीएचयू अस्पताल के कर्मचारी, बंद किया गेट,

Updated on: 06 December, 2019 06:50 AM

बीएचयू के सर सुन्दरलाल अस्पताल व ट्रॉमा सेंटर के मल्टी टास्किंग स्टाफ (एमटीएस) ने वेतन विसंगति के विरोध में मंगलवार को धरना प्रदर्शन किया। अस्पताल के मुख्यगेट में ताला बंद कर विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ नारे लगाए। लगभग साढ़े पांच घंटे के अफरातफरी के माहौल में मरीज और तीमारदार परेशान रहे। बीएचयू के रजिस्ट्रार डॉ. नीरज त्रिपाठी, एमएस प्रो. एसके माथुर, चीफ प्रॉक्टर प्रो. ओपी राय तथा लंका थानाध्यक्ष भारत भूषण तिवारी ने किसी तरह समझा बुझाकर दिन में धरना समाप्त कराया। इसके बाद कर्मचारी काम पर लौट आए।

सर सुन्दरलाल अस्पताल के एमएस ऑफिस में एमटीएस के पांच प्रतिनिधियों के साथ प्रिंसपल सिक्योरिटी एलायड प्राइवेट लिमटेड के बीच वार्ता हुई। रजिस्ट्रार ने शीघ्र ही एमटीएस की वेतन संबंधी दिक्कतों को दूर करने का आश्वासन दिया। इसके बाद प्रतिनिधि धरना स्थल पर पहुंचे और मीटिंग का निर्णय साथियों को बताया।

बतादें कि एमटीएस को दो माह से वेतन नहीं मिला है। ट्रॉमा सेंटर व सर सुन्दरलाल अस्पताल में करीब आठ सौ एमटीएस रखे गए है। इसमें करीब 45 हाईस्किल्ड कर्मचारी हैं। पूर्व में एसआईएस कंपनी एमटीएस हाईस्किल्ड को 24123, स्किल्ड को 16478 तथा एमटीएस को 14980 रुपये वेतन देती थी। नई कपनी ने वेतन में कटौती कर दिया। एमटीएस का कहना है कि वेतन बढ़कर मिलने वाला था, लेकिन जब इस माह वेतन मिला तो दो से तीन हजार रुपये घट गए। इससे बौखलाए कर्मचारियों ने धरना प्रदर्शन कर अपनी बात प्रशासन तक पहुंचाई।

ग्रेच्युटी व ईएल मांगा पैसा
एमटीएस कर्मचारियों ने दो साल से एसआईएस कंपनी द्वारा काटे गए ग्रेच्युटी व ईएल का पैसा वापस करने की मांग की है। कहा कि प्रिंसपल सिक्योरटी एलाइड प्राइवेट लिमटेड से पहले दो साल तक एसआईएस कंपनी ने ग्रेच्युटी व ईएल का पैसा काटा था। इस मद में एमटीएस के करीब आठ सौ कर्मचारियों का ग्रेच्युटी व ईएल के लाखों रुपये फंसे हैं।

दोपहर बाद सुचारु हुई व्यवस्था
एमटीएस कर्मचारियों के धरना प्रदर्शन का आंशिक असर सर सुन्दरलाल चिकित्सालय की ओपीडी व भर्ती वार्ड में पड़ा। ज्यादातर कर्मचारी कार्यलय में काम करते है। कुछ की ड्यूटी स्ट्रेचर पर लगी है तो कुछ साफ-सफाई संभालते हैं। इस लिए हड़ताल का विशेष असर नहीं दिखा। अस्पताल का मुख्य गेट बंद होने के चलते मरीज व तीमारदार दूसरे गेट से ओपीडी में गए। दोपह बाद एमटीएस के काम पर लौटेने से स्थिति सामान्य हुई।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया