युनिलीवर के लाईफब्वाॅय और गावी द्वारा संचालित सफल शुरूआत कार्यक्रम का दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का किया शुभारम्भ

Updated on: 07 December, 2019 04:44 PM

चन्दौली/जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल आज कृषि विज्ञान केन्द्र के सभागार में हिन्दुस्तान युनिलीवर के लाईफब्वाॅय और गावी द्वारा संचालित सफल शुरूआत कार्यक्रम का दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य 2 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में रोकी जा सकने वाली बीमारियों के कारण होने वाली मौतों को कम करने के प्रयास में हिन्दुस्तान युनिलीवर के लाईफब्वाॅय और गावी ने एक आधुनिक परियोजना सफल शुरूआत का लाॅन्च किया, जिसका संचालन ग्रुप एम द्वारा किया जा रहा है।
जिलाधिकारी ने बताया कि 2018-19 में प्रथम चरण का शुभारम्भ किया गया था जिसमें उत्तर प्रदेश के 02 जिले के 807 गांवों में प्रत्येक घर-घर जाकर सभी माता-पिता से मिलकर जानकारी दिया गया था। इस वित्तिय वर्ष में द्वितीय चरण में शामिल इस प्रोगाम को उत्तर प्रदेश के 12 जनपदों को चयनित किया गया है जिसमें जनपद चन्दौली शामिल है। कहा कि हिन्दुस्तान युनिलीवर के लाईफब्वाॅय और गावी ने एक आधुनिक परियोजना सफल शुरूआत को लाॅन्च किया जिसका मुख्य उद्देश्य गाॅव-गाॅव में जाकर हर घर के माता-पिता से मिलकर 2 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में रोकी जा सकने वाली बीमारियों के कारण होने वाली मौतों को कम करने के प्रयास में नागरिकों को पूरी जानकारी दी जायेगी। कहा कि इनकी टीम द्वारा जनपद के सभी ग्राम में जाकर आदतों में बदलाव के लिए प्रत्येक माता-पिता की व्यक्तिगत जरूरतों के मुताबिक उन्हें जानकारी देना, समुदाय में जागरूकता के प्रसार संबंधी गतिविधियां, ग्राम स्तरीय आयोजन, प्रभावशाली और पंचायत सदस्यों से सम्पर्क साधना, स्वास्थ्य कर्मियों और स्कूली बच्चों को इस मुद्दे के प्रति संवेदनशील बनाना।
श्री चहल नें सम्बोधन के दौरान बताया कि सफलता हर बच्चे का अधिकार है। सभी माता-पिता चाहते है कि उनका बच्चा बड़ा होकर एक सफल, कामयाब व्यक्ति बने। सफल शुरूआत कार्यक्रम का उद्देश्य (0से 2 साल) के शुरूआती विकास से जुड़ी आदतों के बारे में माता-पिता को जागरूक बनाना, परियोजना का लक्ष्य है कि बच्चे को सभी टीके लगवाए जाय और माता-पिता/बच्चे मुख्य मौकों यथा भोजन करने से पहले, शौचालय के बाद साबुन से हाथ को अच्छी तरह से धोएॅ। शौचालय का उपयोग करे, गन्दगी गाॅव में नही रहेगा तो डेगू, मलेरियाॅ सहित अन्य संक्रामक रोग उत्पन्न नही होगा। शौचालय को साफ रखे उसका उपयोग करें। बिमारियों से यदि हमे छुटकारा पाना है तो साफ-सफज्ञई पर विशेष ध्यान देना होगा और स्वच्छता अपनाना होगा तभी बिमारियाॅ हमसे दूर होगी।
जिलाधिकारी ने कहा बच्चे पढ़ने में अच्छा अंक पायेगे तो नाम पिता का रौशन होगा ही साथ ही जनपद का नाम लिया जायेगा। डीएम ने संचारी रोग नियंत्रण में यह अभियान सहयोग करेगा। कहा कि इसके लिए ग्राम प्रधान, आशा, एएनएम, डाक्टर, स्वंय सेवी संस्था के लोग भी अपना पूरा सहयोग करे ताकि सफल शुरूआत कार्यक्रम का मंशा साकार हो सके। कार्यक्रम में मुख्य चिकित्साधिकारी आरके मिश्रा, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डीके सिंह, सफल शुरूआत परियोजना की स्टेट प्रोग्राम मैनेजर अर्चना चैधरी, आशा, आंगनवाड़ी कार्यकत्री, एएनएम एवं ग्राम प्रधान सहित अन्य लोग उपस्थित।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया