दीपावली: घर जानें का है प्लान तो अभी से करा लें बुकिंग, विमान से भी ज्यादा इस ट्रेन का हो गया है किराया

Updated on: 20 October, 2019 02:20 AM

अगर आप ट्रेन से अपना सफर तय करते हैं और इस दीपावली घर जाने का प्लान बना रहे हैं तो वक्त रहते अभी से अपने लिए टिकट बुक करवा लीजिए। कहीं ऐसा न हो टिकट बुक करवाते समय टिकट का दाम सुनकर आपको झटका ही लग जाए। जी हां हाल ही में एक ट्रेन ने अपना किराया विमान के किराए से भी ज्यादा बढ़ा दिया है। जी हां और इस ट्रेन का नाम है तेजस।

खबरों की मानें तो दीपावली में नई दिल्ली से लखनऊ आने के लिए तेजस का किराया आसमान छू रहा है। डायनेमिक फेयर के चलते 26 अक्तूबर को तेजस की एक्जीक्यूटिव चेयरकार का किराया 4300 रुपए के पार चला गया है, जबकि नई दिल्ली से लखनऊ का विमान किराया 1800 रुपए पर है। इस दिन दिल्ली से लखनऊ आने वाले करीब नौ विमानों में यही किराया बना हुआ है।

देश की पहली कारपोरेट सेक्टर वाली ट्रेन तेजस में दीपावली में सफर करना महंगा पड़ेगा। डायनेमिक फेयर के रूप में एसी चेयरकार में 1748 रुपये एवं एक्जीक्यूटिव चेयरकार में 1657 रुपये अतिरिक्त लिए जा रहे हैं। इससे एक्जीक्यूटिव चेयरकार का किराया 4325 रुपये और एसी चेयरकार का किराया 3295 रुपये हो गया है। जबकि, इसके चेयर कार में न्यूनतम किराया 1125 रुपए और एक्जीक्यूटिव में 2310 रुपये हैं। इस किराये में यात्री विमान से नई दिल्ली से लखनऊ आ सकते हैं।

लखनऊ से नई दिल्ली के किराये में कोई खास बढ़ोतरी नहीं हुई है। दीपावली से पहले लखनऊ से नई दिल्ली जाने के लिए एसी एक्जीक्यूटिव और एसी चेयरकार में 300 से ज्यादा सीटें खाली पड़ी हैं।

विमान से आधे किराये पर सुविधा देने का था दावा-
आईआरसीटीसी के प्रबंध निदेशक एमपी मल का दावा था कि तेजस का किराया त्योहार और सीजन में केवल महंगा होगा। लेकिन, किसी भी सीजन में तेजस का किराया विमान के किराये से ज्यादा नहीं होगा।

शताब्दी भरी, तेजस खाली-
तेजस के आसमानी किराये को देखते हुए यात्रियों ने शताब्दी को अपनी पसंद बना लिया है। नई दिल्ली से लखनऊ के लिए शताब्दी में 21 अक्तूबर से वेटिंग है। जबकि वापसी में 29 और 30 अक्तूबर को वेटिंग चल रही है। वहीं, तेजस में 25 और 26 अक्तूबर को एसी चेयरकार में वेटिंग है। जबकि एक्जीक्यूटिव चेयरकार में सीटें खाली हैं। लखनऊ से दीपावली बाद एसी चेयरकार और एक्जीक्यूटिव चेयरकार में सीटें खाली हैं।

तेजस में खाना वैकल्पिक नहीं -
शताब्दी, राजधानी सरीखी ट्रेन में टिकट बुक करते समय खाना विकल्प में होता है। ऐसे में डायबिटीज मरीज और ट्रेन में खाना न खाने वाले इसे छोड़ सकते हैं। इससे उनको किराये में छूट मिल जाती है। लेकिन, तेजस में खाना विकल्प के तौर पर मौजूद नहीं है। यात्री खाना खाए अथवा छोड़ दें, उन्हें टिकट किराये में कोई छूट नहीं मिल रही है। कैटरिंग चार्ज देना ही होगा।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया