मुंबई में लखपति निकला भिखारी, झोपड़ी में मिले 1.75 लाख के सिक्के, बैंक में 8.77 लाख रुपए जमा

Updated on: 20 October, 2019 02:30 AM

अगर आप किसी भिखारी को देखकर उसके गरीब होने का अनुमान लगाते हैं तो शायद आप गलत साबित हो सकते हैं। क्योंकि मुंबई में एक भिखारी के लखपति होने का अजीबो गरीब मामला सामने आया है। दरअसल शुक्रवार को मुंबई के गोवंडी स्टेशन के पास ट्रेन से कटकर एक भिखारी की मौत हो गई थी। घटना के बाद मौके पर पहुंची जीआरपी ने भिखारी की पहचान बिरभीचंद आजाद के रूप में हुई। लेकिन जब पुलिस भिखारी की झोपड़ी में पहुंची तो वहां का नजारा देखकर हैरान रह गई। क्योंकि पुलिस को वहां पर थैलों में लगभग दो लाख रुपए के सिक्के मिले। साथ में वहां पर बैंक का पासबुक भी मिला जिसमें 8 लाख 77 हजार रुपए जमा हैं।

फिलहाल जीआरपी आजद के बेटे से संपर्क करने में जुटी हुई है जो कि राजस्थान में रहता है। वहीं जीआरपी ने एक्सिडेंट का केस दर्ज कर लिया है। आजाद स्टेशन पर और ट्रेनों में भीख मांगता था। वाशी जीआरपी के इंस्पेक्टर नंदकुमार सास्ते ने बताया कि घटना के बाद पूछताछ करते हुए हम एक झोपड़ी तक पहुंचे। जहां एक पड़ोसी ने बताया कि आजाद यहां अकेले रहता था और उसका कोई रिश्तेदार नहीं था। इसके बाद आज से जुड़ी जानकारी पाने के लिए हमने झोपड़ी में खोजबीन करने का फैसाल किया।

स्टील के डिब्बों में रखे थे सिक्के
वही आजाद की झोपड़ी खोजने वाले जीआरपी के सब इंस्पेक्टर प्रवीण कांबले ने कहा कि वहां हमे चार बड़े डिब्बे मिले। जिसमें की एक, दो, पांच और 10 रुपए के सिक्के से भरे पैकेट रखे गए थे। इसके बाद जब हमने उसकी गिनती शुरू की तो कुल 1.75 लाख हुए। इसके बाद पुलिस को झोपड़ में ही स्टील का एक कंटेनर मिला जिसमें की पैन कार्ड, आधार कार्ड, वरिष्ठता कार्ड जैसे कुछ कागजात मिले।

अलग-अलग बैंकों के पासबुक मिले
कागजात के आधार पर पता चला कि आजाद का जन्म 27 फरवरी 1937 को हुआ था। पिछले कुछ सालों से वो शिवाजी नगर के बैगनवाड़ी में रह रहा था। इसके अलावा झोपड़ी में आजाद से जुड़े कुछ और भी कागजात मिले जिसमें दो अलग-अलग बैंकों के पासबुक भी है इसके एक में 8.77 लाख रुपए का फिक्स्ड डिपोजिट है जबकि दो अलग-अलग बैंक के बचत खाते में कुल 96 हजार रुपए जमा हैं। फिलहाल पुलिस आजाद के बेटे और उसके परिवार तक पहुंचने की कोशिश में जुटी हुई है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया