पीलीभीत में प्रार्थना में छात्रों ने गाया 'लब पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरी', प्रिंसिपल निलंबित

Updated on: 07 December, 2019 04:42 PM

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में एक सरकारी स्कूल के प्रधानाध्यापक को विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल की स्थानीय इकाई की शिकायत पर निलंबित कर दिया गया। संगठनों का आरोप है कि छात्र सुबह की प्रार्थना में 'लब पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरी' गीत गा रहे थे।

कविता 'लब पे आती है दुआ' को अल्लामा इकबाल के नाम से प्रसिद्ध मोहम्मद इकबाल ने 1902 में लिखी थी। इकबाल ने ही इस प्रसिद्ध पंक्ति 'सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा' को लिखा है। आईएएनएस की रिपोर्ट के अनुसार, विहिप की शिकायत की ब्लॉक शिक्षा अधिकारी (बीईओ) उपेंद्र कुमार ने जांच शुरू की। जांच में पाया गया कि स्कूल में बच्चे सुबह की सभा में अक्सर यही कविता गाते थे।

पीलीभीत के जिला अधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने कहा कि प्रधानाध्यापक को इसलिए निलंबित किया गया है क्योंकि वह छात्रों से राष्ट्रगान नहीं करवाता था।

उन्होंने कहा, 'प्रधानाध्यापक अगर छात्रों को कोई अन्य कविता पढ़ाना चाहते थे, तो उन्हें अनुमति लेनी चाहिए। अगर वह छात्रों से कोई कविता गान कराते हैं और राष्ट्रगान नहीं कराते हैं तो उनके खिलाफ आरोप बनता है।' निलंबित शिक्षक फुरकान अली (45) ने हालांकि आरोपों को खारिज किया है।

उन्होंने कहा, 'छात्र लगातार राष्ट्रगान करते हैं और इकबाल की कविता कक्षा एक से आठ तक उदूर् पाठ्यक्रम का हिस्सा है। विहिप और हिंदू युवा वाहिनी कार्यकतार्ओं ने मुझे निकालने की मांग करते हुए स्कूल और कलेक्टरेट के बाहर विरोध किया। मैंने सिर्फ वह कविता गाई है जो सरकारी स्कूल के पाठ्यक्रम का हिस्सा है। मेरे छात्र भी प्रतिदिन सभा के दौरान 'भारत माता की जय' जैसे देशभक्ति के नारे लगाते हैं।'

पीलीभीत के बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) देवेंद्र स्वरूप ने हालांकि कहा कि विहिप और बजरंग दल के सदस्यों की शिकायत इसके खिलाफ नहीं है कि राष्ट्रगान होता है या नहीं, बल्कि उसने इकबाल की कविता का विरोध किया गया है।

विहिप के जिला प्रमुख अंबरीश मिश्रा ने कहा कि उन्होंने सरकारी प्राइमरी स्कूल में मदरसा की कविता को गाए जाने का विरोध किया था। उन्होंने कहा, 'सरकारी स्कूल में अलग-अलग प्रार्थनाएं गाने के लिए हमने प्रधानाध्यापक के खिलाफ कार्रवाई के लिए बीएसए को लिखित शिकायत की है।'

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया