वाराणसीः देव दीपावली पर अनूप जलोटा और हंसराज हंस बिखेरेंगे गायकी का जादू

Updated on: 19 November, 2019 01:56 AM

वाराणसी में देव दीपावली पर इस बार अनूप जलोटा और सूफी गायक हंसराज हंस अपनी गायकी का जादू बिखेरेंगे। विश्व प्रसिद्ध देवदीपावली पर दुनियाभर से पर्यटक घाटों की खूबसूरती देखने पहुंचते हैं। ऐसे में भजन और सूफी संगीत के रस में भी देशी-विदेशी पर्यटक व श्रद्धालु गोता लगाएंगे। कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि देव दीपावली की तैयारी की जा रही है। फिलहाल कार्यक्रम स्थल तय नहीं हो सका है। इस बार दशाश्वमेध समेत किसी भी घाट पर पीपे पर बनने का मंच भी नहीं बनेगा।

देवदीपावली की तैयारी बैठक में घाटों पर दीपदान में स्थानीय लोगों की जनसहभागिता का आह्वान किया। कहा कि लोग खुद आगे आएंगे तो 11 लाख दीयों से घाट जगमग होंगे। नावों पर जल पुलिस, पीएसी एवं एनडीआरएफ के जवानों के साथ कुशल गोताखोरों की तैनाती का निर्देश दिया। यातायात व्यवस्था को हर हालत में सामान्य रखने पर जोर दिया। रूट डायवर्जन के साथ-साथ बाहरी वाहनों की पार्किंग व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए कहा।

कमिश्नर ने कहा कि पर्यटन विभाग होटलों के लिए एडवाइजरी जारी करे। तय हुआ कि कटिंग मेमोरियल मैदान, सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय, क्वींस कॉलेज, बेनियाबाग मैदान एवं टाउनहॉल मैदान में वाहनों के पार्किंग की व्यवस्था रहेगी। जगह-जगह साइनेज लगाने का निर्देश दिया। बताया कि इस साल घाटों पर जलाए जाने वाले दीपक बड़े आकार के रखे जाएंगे। ताकि कम से कम चार-पांच घंटे तक घाटों को जगमग करते रहे और लोग देर तक घाटों की अविस्मरणीय छटा देख सकें।

कमिश्नर ने घाटों को जाने वाले मार्गों एवं गलियों में सफाई व प्रकाश की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है। उन्होंने खासतौर पर नगर निगम को ताकीद की कि कार्यक्रम खत्म होने के बाद घाटों से दीये हटा दिये जाएं। पुलिस महानिरीक्षक विजय सिंह मीणा ने पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया कि थानावार नाविकों की सूची तैयार करें। ड्यूटी पर लगने वाले पुलिसकर्मियों को प्रशासन की व्यवस्थाओं के बाबत आवश्यक जानकारी उपलब्ध कराएं। बैठक में नगर आयुक्त गौरांग राठी, उपाध्यक्ष विकास प्राधिकरण राहुल पांडेय, अपर जिलाधिकारी नगर विनय कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक नगर दिनेश कुमार सिंह, एसपी ट्रैफिक, पुलिस क्षेत्राधिकारी, थाना प्रभारी सहित बिजली, लोक निर्माण विभाग, आपूर्ति, सांस्कृतिक विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

नावों पर पुलिस जवानों के साथ होंगे कुशल गोताखोर
अपर पुलिस महानिदेशक विजय भूषण ने सुरक्षा के मुकम्मल इंतजाम के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को निर्देशित किया। गंगा में नावों की क्षमता, नाव मालिक एवं नाविक का नाम, मोबाइल नंबर, घाट एवं उसका क्षेत्र आदि रेडियम से लिखवाएं। क्षमता से अधिक यात्री किसी भी दशा में बैठने न पाए। कहा कि नावों पर पुलिस, पीएसी एवं एनडीआरएफ के जवानों के साथ कुशल गोताखोर का प्रबंध करें।

सांस्कृतिक स्पर्धा में बेहतर करने वाले बच्चों को गंगा महोत्सव का मंच
देव दीपावली पर होने वाले गंगा महोत्सव से पहले माध्यमिक स्कूलों की सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं की तैयारी तेज हो गई। इस बार सीबीएसई स्कूलों के बच्चे भी प्रतियोगिता में शामिल होंगे। प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन करने वाले बच्चों को गंगा महोत्सव के मुख्य मंच पर प्रस्तुति देने का मौका मिलेगा। कार्यक्रम के संयोजक और एंग्लो बंगाली इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. विश्वनाथ दूबे ने बताया है कि पहली बार कार्यक्रम में सीबीएसई स्कूल के बच्चे भाग ले रहे हैं। कुल 60 स्कूलों के 600 से अधिक छात्र-छात्राएं अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे।

गायन, नृत्य और वादन में जूनियर और सीनियर वर्ग में प्रतियोगिताएं होंगी। गायन में उपशास्त्रीय और लोकगीत, नृत्य में एकल और समूह नृत्य, वादन में तबला वादन, बांसुरी/सितार वादन में छात्र-छात्राएं अपनी प्रस्तुति देंगे। प्रत्येक प्रस्तुति के लिए पांच मिनट का समय दिया जाएगा। एक प्रतिभागी एक ही विधा में प्रस्तुति देगा। सम्पूर्ण कार्यक्रम भारतीय संस्कृति पर आधारित होगी।

विद्यालयों से कहा गया है कि आयोजन के महत्व को देखते हुए सभी प्रस्तुतियों को गरिमापूर्ण बनाए रखें। गत वर्षों में सफल रहे कलाकारों को भी अलग से प्रस्तुति का मौका मिलेगा। सभी सांस्कृतिक प्रस्तुतियां तबला वादक पूरन महाराज की देखरेख में होंगी। इस मौके पर पत्रिका त्रिपथगंगा का लोकार्पण होगा। पांच नवंबर को समारोह का उद्घाटन सांस्कृतिक संकुल में पर्यटन राज्यमंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कमिश्नर दीपक अग्रवाल करेंगे। तीनों दिन अलग-अलग मुख्य अतिथि होंगे।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया