अयोध्या पर फैसले से ठीक पहले काशी में बढ़ी सतर्कता, स्कूल 11 तक बंद, देर रात चेकिंग

Updated on: 15 July, 2020 12:22 AM

अयोध्या मामले में शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने की जानकारी मिलते ही काशी में सतर्कता बढ़ा दी गई। स्कूल-कालेजों को सोमवार 11 नवंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में पठन-पाठन नहीं होगा। हरिश्चंद्र पीजी कॉलेज भी 11 नवंबर तक बंद रहेगा। रेलवे स्टेशन और प्रमुख स्थलों पर देर रात चेकिंग अभियान शुरू कर दिया गया। वाराणसी पहुंचे प्रयागराज रेलवे पुलिस के एसपी ने कैंट जीआरपी की क्राइम मीटिंग रद कर दी। सीओ अखिलेश राय और इंस्पेक्टर अशोक कुमार दुबे को सघन चेकिंग अभियान चलाने के लिए कहा। निर्देश के क्रम में चेकिंग जारी रही।

काशी स्टेशन पर जीआरपी के जवानों ने मॉक ड्रिल किया। इस दौरान आपात स्थिति से निपटने और संदिग्धों की जांच करने को लेकर अभ्यास किया गया। साथ ही लोगों को जागररूक किया गया कि वह संदिग्ध या लावारिस वस्तु दिखने पर तत्काल जीआरपी के हेल्पलाइन पर सूचना दें। गोदौलिया से दशाश्वमेध तक एसओ के साथ बड़ी संख्या में पुलिस के जवानों ने गश्त की।

दिन में जुमा की नमाज के बाद शहर की सभी मस्जिदों से अयोध्या प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करने की अपील की गई। कहा गया कि फैसला जो भी आए, इसका एहतराम करें। किसी भी तरह के अफवाहों से अपने को दूर रखें। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कांग्रेस-सपा सहित कई राजनैतिक पाटियों के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की और अय़ोध्या पर आने वाले फैसले को देखते हुए शांति और सौहार्द बनाए रखने की अपील की।

दक्षिणी से विधायक और प्रदेश के पर्यटन, संस्कृति एवं धर्मार्थ कार्य राज्यमंत्री डॉक्टर नीलकंठ तिवारी ने लोगों से अयोध्या राम मंदिर के संबंध में शनिवार को सर्वोच्च न्यायालय के आने वाले फैसले के परिपेक्ष्य में कौमी एकता एवं सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने की अपील की है। कहा कि काशी गंगा जमुनी तहजीब का शहर है। न्यायालय के आदेश का सम्मान लोगों सम्मान करें और शांति व्यवस्था बनाए रखें।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया