वाराणसी: कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान को उमड़ी भीड़, काशी विश्वनाथ में कतार

Updated on: 15 July, 2020 01:34 AM

कार्तिक पूर्णिमा के पावन अवसर पर वाराणसी में गंगा स्नान के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी हुई है। स्नान के बाद बाबा विश्वनाथ का दर्शन और जलाभिषेक के लिए लंबी कतार लगी हुई है। यहां के प्रमुख घाट दशाश्वमेध, अस्सी, राजघाट, पंचगंगा आदि पर श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए विशेष इंतजाम किये गए हैं। वालंटियरों के अलावा एनडीआरएफ की टीमें नजर रख रही हैं। अयोध्या पर आए फैसले के कारण सुरक्षा व्यवस्था तगड़ी रखी गई है।

बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में कार्तिक पूर्णिमा के दिन सूर्य की पहली किरण के साथ ही सबने गंगा में डुबकी लगाना शुरू कर दिया। ऐसी मान्यता है कि आज के दिन गंगा में नहाने से पुण्य प्राप्त होता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा विशेष फल देने वाली होती है। आज के दिन जो भी भक्त सच्चे मन और विश्वास के साथ गंगा में डुबकी लगाते हैं, उनकी सभी मनोकामनाएं जरूर पूरी होती हैं। काशी में इस त्योहार का खासा महत्व है। स्कंद पुराण की मानें तो आज के दिन स्वर्ग से देवतागण धरती पर आते हैं, इसीलिए भोले नाथ की नगरी में गंगा में स्नान और पूजन करने से शिव के साथ-साथ भगवान विष्णु भी प्रसन्न होते हैं और भक्तों को मोक्ष की मिलता है।

कार्तिक पूर्णिमा का महत्व
कार्तिक पूर्णिमा का महत्व सिर्फ वैष्णव भक्तों के लिए ही नहीं शैव भक्तों और सिख धर्म के लिए भी बहुत ज्यादा है। विष्णु के भक्तों के लिए यह दिन इसलिए खास है क्योंकि भगवान विष्णु का पहला अवतार इसी दिन हुआ था। प्रथम अवतार में भगवान विष्णु मत्स्य यानी मछली के रूप में थे। भगवान को यह अवतार वेदों की रक्षा,प्रलय के अंत तक सप्तऋषियों,अनाजों एवं राजा सत्यव्रत की रक्षा के लिए लेना पड़ा था। इससे सृष्टि का निर्माण कार्य फिर से आसान हुआ।

शिव भक्तों के अनुसार इसी दिन भगवान भोलेनाथ ने त्रिपुरासुर नामक महाभयानक असुर का संहार कर दिया जिससे वह त्रिपुरारी के रूप में पूजित हुए। इससे देवगण बहुत प्रसन्न हुए और भगवान विष्णु ने शिव जी को त्रिपुरारी नाम दिया जो शिव के अनेक नामों में से एक है। इसलिए इसे 'त्रिपुरी पूर्णिमा' भी कहते हैं।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया