रेलवे अधिकारी ने की 10 हजार के इनाम की घोषणा, फिर ठोक दिया इतने का ही जुर्माना

Updated on: 05 April, 2020 09:36 AM

वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन को सोमवार को इनाम और जुर्माना दोनों का अनुभव मिला। यात्री सेवा समिति के चेयरमैन रमेश चंद्र रत्न ने निरीक्षण के दौरान यात्री सुविधाओं और सेवाओं से खुश होकर 10 हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा कर दी। हालांकि प्लेटफार्म नंबर एक पर फूड प्लाजा की रसोई में गंदगी देख इतना ही जुर्माना भी ठोक दिया। उन्होंने काशी स्टेशन पर वेटिंग लॉल और वाटर बूथ में सुधार करने का निर्देश दिया। चेयरमैन पं. दीनदयाल जंक्शन पर निरीक्षण करने के बाद दिन में करीब तीन बजे काशी पहुंचे। वहां रेल परिचालक कक्ष, यात्री विश्रामालय्र, शौचालय का निरीक्षण किया। वाटरबूथ पर टोटियां देखी।

रिफ्रेश फूड प्लाजा की रसोई में गंदगी देख नाराज हुए अधिकारी
प्लेटफार्म नंबर एक पर फर्श टूटी थी। इसे ठीक कराने को कहा। इसके बाद वह कैंट रेलवे स्टेशन पहुंचे। वहां आईटीबी देखा। मुख्य हाल में नई दिल्ली के यात्री धीरेंद्र कुमार, गया के विनोद प्रसाद और प. बंगाल के डीवीके देव से बात की। देव ने सर्कुलेटिंग एरिया में बेतरतीब पार्किंग की शिकायत की। इसके बाद चेयरमैन प्लेटफार्म नंबर एक पर एक फूड स्टाल पर गए। वहां तैनात कर्मचारी का परिचय पत्र, मेडिकल प्रमाणपत्र और खाद्य सामग्रियों पर एक्सपायरी तारीख देखी। वह रिफ्रेश फूड प्लाजा की रसोई में गए। वहां गंदगी देख नाराज हुए और सफाई व्यवस्था दुरुस्त रखने को कहा।

15 दिन में चिकित्सा की व्यवस्था, सात दिन में कमियां दूर होंगी
प्रथम तल पर वेटिंग हाल में आरओ की व्यवस्था करने को कहा। निरीक्षण के दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा, एडीआरएम रवि कुमार चतुर्वेदी, स्टेशन निदेशक आनंद मोहन, सहायक मंडल इंजीनियर पीयूष पाठक, मंडल विद्युत अभियंता जेके लोहिया मौजूद थे। पत्रकारों से बातचीत में चेयरमैन ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन पर प्लेटफार्म पर पानी लगने को लेकर उन्होंने 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। कहा कि कैंट स्टेशन पर 15 दिन के भीतर प्लेटफार्म पर चिकित्सा की व्यवस्था सुनिश्चित होगी। कुछ कमियां मिली हैं, इसे सात दिन में दूर करने के लिए कहा है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया