दिव्यांग जनों ने अपने अधिकारों के लिए उठाई आवाज

Updated on: 08 April, 2020 08:46 PM

आज दिनांक 5 दिसंबर को भारत माता मंदिर से जन विकास समिति धरमलपुर मुर्दाहा वाराणसी के नेतृत्व से अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग दिवस समारोह का आयोजन किया गया जिसमें जनप्रतिनिधियों और दिव्यांग जनों की चौपाल का आयोजन एक कदम दिव्यांग जनों के अधिकार हेतु एक रैली भी निकाली गई

दिव्यांग जनों के अधिकार हेतु भारत में चार दशकों से प्रयास जारी है विशेषकर सन 1970 से दिव्यांग जनों के अधिकार हेतु बहुत सारे संस्थाएं एवं दिव्यांग स्वयंसेवी संस्थाएं आवाज उठाती रही हैं भारत सरकार ने इस दिशा में दिव्यांग अधिकार विधेयक 2016 के द्वारा दिव्यांगों को अधिकार प्रदान कर सकत करने का काम किया है दिव्यांग अधिकार विधेयक 2016 को ध्यान में रखते हुए हमें दिव्यांगों के लिए स्वास्थ्य शिक्षा रोजगार सामान्य सामाजिक जीवन एवं सशक्तिकरण पर अधिक जोर देने की आवश्यकता है क्योंकि अभी तक हम सभी दिव्यांगों तक नहीं पहुंच पाए हैं हमें अभय विचार करना चाहिए कि दिव्यांग अधिकार विधेयक 2016 पारित होने के 2 वर्ष बाद हम कहां हैं क्या हमने उन सभी पांच समुदाय आधारित पुनर्वास आव्यूह स्वास्थ्य शिक्षा रोजगार सामान्य सामाजिक जीवन एवं सशक्तिकरण जैसे मुद्दे को हासिल करने में सक्षम हो सके

चूँकि दिव्यांग जनों के अधिकारों को उन तक पहुंचाने के लिए सरकार लिखित रूप से कृत संकल्प है किंतु इसका क्रियान्वयन अभी भी अधूरा है अतः इन सभी विषयों को ध्यान में रखते हुए जन विकास समिति हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी दिव्यांगों के अधिकारों के मुद्दे माननीय जनता के द्वारा चुने हुए सदस्यों को अवगत कराने हेतु जनप्रतिनिधि और दिव्यांग जनों की चौपाल के माध्यम से संज्ञान में लाना उचित समझा है दिव्यांगों का समूह चौपाल में जन प्रतिनिधियों से वार्ता करेगा और अपनी समस्याओं को रखेगा और उनसे जानना चाहेगा कि दिव्यांग अधिकार विधेयक 2016 को जमीनी स्तर पर किस तरह लागू किया जाएगा
हमेशा यह ध्यान रहे कि दिव्यांग विभिन्न तरीके से सभी कार्य करने में सक्षम है जो हम और आप करते हैं हम सभी भारतीयों का कर्तव्य के दिव्यांगों के अधिकार हेतु अपना योगदान दें अगर हमें सम्मान नागरिकता एवं भारतीयता में विश्वास है एवं भारतीय होने का गर्व करते हैं तो एक कदम दिव्यांग जनों के अधिकार हेतु आए हैं

रिपोर्टर: शिवम् सिंह चौहान

 

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया