दो दिन और रहेगा उत्तर प्रदेश में शीतलहर का प्रकोप, लुढ़केगा पारा

Updated on: 11 April, 2020 01:07 AM

बर्फ से ढके उत्तराखंड के पहाड़ों से होकर आ रही उत्तरी पश्चिमी बर्फीली हवाओं से पूरा उत्तर प्रदेश ठिठुर रहा है। दिन व रात के तापमान में भारी गिरावट के साथ गलन व ठिठुरन बढ़ गई है।

प्रदेश के सभी स्थानों पर दिन व रात का तापमान सामान्य से काफी कम दर्ज हो रहा है। यह शीत लहर प्रदेश वासियों को दो दिन और परेशान करेगी। जिलों में ठंड की वजह से स्कूल-कालेज बंद करने पड़े हैं वहीं ट्रेनों और हवार्ई यात्राएं प्रभावित हैं। ठंड के कारण प्रदेश में शनिवार को 18 और लोगों की मौत हो गई।

शुक्रवार की रात प्रदेश का सबसे ठंडा स्थान अलीगढ़ रहा जहां पारा 1.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। इससे पहले अलीगढ़ में 46 साल पहले 30 दिसम्बर 1973 को रात का पारा अब तक का सबसे कम दर्ज हो चुका है।

दो दिन और रहेगा शीत लहर का प्रकोप
इसी तरह मेरठ में 4.4, कानपुर में 2, झांसी में 2.3 और बहराइच में 2 डिग्री सेल्सियस रात का तापमान दर्ज हुआ। मौसम विभाग के अनुसार अगले दो दिनों के दरम्यान प्रदेश के विभिन्न अंचलों में प्रचण्ड शीतलहर चल सकती है। इन अगले दो दिनों में प्रदेश में ठण्ड का प्रकोप और गहरा सकता है। कानपुर में इससे पहले 17 दिसम्बर 2011 को 1.8 और 28 दिसम्बर 2012 को 2 डिग्री सेल्सियस दर्ज हो चुका है। कानपुर में रात का अब तक सबसे कम तापमान 13 जनवरी 2013 को - 1.1 डिग्री दर्ज हुआ था।

मौसम निदेशक जे.पी.गुप्त का कहना है कि दो दिन अभी ठण्ड और रहेगी, उसके बाद मौसम में थोड़ा सुधार होगा फिर पहली से तीन जनवरी के बीच प्रदेश के विभिन्न अंचलों में बारिश होगी जिससे सर्दी और बढ़ सकती है। लखनऊ और आसपास के इलाके के साथ प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में दिन में धूप नहीं निकली और 'कोल्ड डे' की वजह से दिन में कुहासा छाया रहा और ठिठुरन बनी रही। जनजीवन मौसम के इस तीखे तेवर से बेहाल हो रहा है।

शनिवार को न्यूनतम तापमान 4.4 डिग्री सेल्सियस रहा। इससे पहले 11 दिसम्बर को मेरठ में ये 4.2 डिग्री सेल्सियस पहुँच चुका है। 30 साल का रिकॉर्ड ब्रेक हो गया है। इस क्षेत्र में शामली में पारा लुढ़ककर 2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है जबकि बुलंदशहर, सहारनपुर, बागपत तापमान 3 डिग्री सेल्सियस है।

ठंड से मेरठ में अभी तक कोई मौत रिपोर्ट नहीं हुई है। हालांकि बुलंदशहर में आज ठंड के कारण अहार क्षेत्र में 40 वर्षीय युवक मुकेश पुत्र किशनलाल की मौत हो गई है। शुक्रवार को शामली और बागपत में 2-2 और हापुड़ में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।

कड़ाके की सर्दी ने बरेली में भी जनजीवन प्रभावित कर दिया है। जिले में न्यूनतम तापमान 3.1 डिग्री तक गिर चुका है। यह तापमान शनिवार की सुबह 8:30 बजे दर्ज किया गया। यह पिछले 10 वर्षों का दिसम्बर का न्यूनतम तापमान है। 2018 में दिसम्बर का न्यूनतम तापमान 3.2 डिग्री तक गिरा था।

शाहजहांपुर में ठंड ने 4 साल का रिकॉर्ड तोड़ा है। 4 साल पहले अधिकतम तापमान 14 डिग्री तक गया था। उसके बाद 2019 में 28 दिसंबर को अधिकतम तापमान 14 डिग्री अधिकतम रिकॉर्ड किया गया है। न्यूनतम तापमान 3.8 डिग्री सेल्सियस है। अभी गोरखपुर में ठंड से एक भी मौत नहीं हुई है। शुक्रवार की रात यहां पारा 5.3 डिग्री सेल्सियस पर दर्ज हुआ। बस्ती में अब तक ठंड से छह मौतें बताई जा रही है लेकिन पुष्टि एक की भी नहीं है। परिवारीजनों ने बगैर प्रशासन को सूचित किए ही अंतिम संस्कार कर दिए। शुक्रवार रात में संतकबीरनगर में मजदूर की ठंड से मौत हुई है।

जहां-जहां रात का तापमान 4 डिग्री से नीचे दर्ज हो रहा है वहां पाला पड़ने के आसार बढ़ रहे हैं। दरअसल 4 डिग्री से नीचे रात का तापमान होने पर वायुमंडल में मौजूद पानी के कण जमने लगते हैं और फिर यह पानी के जमे हुए कण बरसते हैं जिसे पाला कहते हैं। पाला पड़ने से सब्जी, दलहन व तिलहनी फसलों में टमाटर, आलू, मटर, सरसों, चना के अलावा गेंदा, तुलसी जैसी मेडिसनल खेती को भी नुकसान पहुंचता है। किसान ध्यान रखें, खेतों में पानी जरूर रहे। -प्रो.पदमाकर त्रिपाठी -पूर्व वैज्ञानिक फैजाबाद कृषि वि.वि.

पाला पड़ने से पान की खेती को भारी नुकसान हो रहा है। लखनऊ, उन्नाव, कानपुरी, सीतापुर, हरदोई, बाराबंकी, जौनपुर, प्रतापगढ़, रायबरेली, महोबा, ललितपुर, आजमगढ़ और बलिया में पाले की वजह से पान सड़ने लगा है। -छोटे लाल चौरसिया महासचिव राष्ट्रीय पान किसान यूनियन

कहां कितना दर्ज हुआ पारा
स्थान अधिकतम न्यूनतम
आगरा 14.5 4.1
अलीगढ़ 1.8
कानपुर 12.2 2.0
झांसी 9.9 मेरठ 11.6 4.4
बरेली 13.1 3.1
गोरखपुर 14.0 वाराणसी 13.0 15.8 लखनऊ मुरादाबाद कहां टूटा रिकॉर्ड

कानपुर में रात का तापमान 2 डिग्री तक गिरा, अधिकतम तापमान 12.6 डिग्री रहा, 45 साल का टूटा रिकॉर्ड
बनारस में तापमान चार डिग्री सेल्सियस, पांच साल का रिकॉर्ड टूटा
शाहजहांपुर में ठंड ने 4 साल का रिकॉर्ड तोड़ा है। 4 साल पहले अधिकतम तापमान 14 डिग्री तक गया था।

कहां कितनी मौतें

ब्रेन स्ट्रोक और हार्ट अटैक से 10 की मौत
उन्नाव में तीन की मौत, झांसी में किसान की मौत, रायबरेली में ठंड से महिला की मौत, बहराइच में मासूम ने दम तोड़ा,संतकबीरनगर में ठंड से मजदूर की मौत, शाहजहांपुर में महिला की मौत

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया