हमें लगता है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई खत्म होने वाली है तो हम गलत हैं

Updated on: 01 April, 2020 12:56 PM

दिल्ली में रायसीना डायलॉग 2020 में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने कहा कि जब तब आतंकवाद प्रायोजित करने वाले देश हैं, तब तक हमें इस खतरे का सामना करते रहना होगा। हमें इससे निर्णायक ढंग से निपटना होगा। अगर हमें ऐसा लगता है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई खत्म होने वाली है, तो हम गलत हैं।

सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा कि ऐसे लोग साथी नहीं हो सकते जो आतंकवाद पर वैश्विक युद्ध में भागीदारी कर रहे हों और आतंकवाद को प्रायोजित भी कर रहे हों। आतंकवाद प्रयोजित करने वाले देशों को राजनयिक स्तर पर अलग-थलग करना चाहिए, आतंकवाद के प्रायोजक किसी भी देश को जवाबदेह ठहराना होगा।

उन्होंने कहा कि आतंक के खिलाफ युद्ध खत्म नहीं हो रहा है, यह कुछ ऐसा है जो आगे भी जारी रहेगा और हमें इसके साथ रहना होगा, जब तक हम समझते हैं और आगे बढ़ते हैं आतंकवाद की जड़ें है। हमने आतंकवाद को समाप्त करने के लिए उसी तरह के कदम उठाने होंगे जो अमेरिका ने 9/11 हमले के बाद उठाए थे। उन्होंने कहा कि आइए आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक युद्ध पर जाएं। ऐसा करने के लिए आपको आतंकवादियों को अलग-थलग करना होगा।

बिपिन रावत ने कहा कि आतंकवाद यहां तब तक रहने वाला है जब तक उनको प्रयोजित करने वाले हैं। आतंकवादियों को इस्तेमाल किया जा रहा है, उन्हें हथियार उपलब्ध कराए जा रहे हैं, उनको धन उपलब्ध कराया जा रहा है फिर हम आतंकवाद को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि आपको हर किसी के साथ (अफगानिस्तान में) शांति समझौते पर आना होगा, अगर आपको उनके साथ शांति समझौते पर आना है, तो आपको बातचीत के लिए शांति से जाना होगा। तालिबान या जिस भी संगठन पर विचार कर रहे हैं, आतंक को आतंक के उस हथियार को छोड़ना होगा, उन्हें राजनीतिक मुख्यधारा में आना होगा। कोई भी देश जो आतंकवाद को प्रायोजित कर रहा है उसे जवाबदेह बनाना होगा। मुझे लगता है कि अपनाए गए उपायों में से एक है फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) द्वारा ब्लैकलिस्ट करना है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया