पुलवामा हमले की पहली बरसी: विरोधियों ने फिर पूछा- कहां से पहुंचा इतना आरडीएक्स?

Updated on: 30 March, 2020 06:08 PM

पुलवामा हमले के एक साल पूरे होने पर जहां एक तरफ 40 सीआरपीएफ जवानों की शहादत की याद में मेमोरियल का उद्घाटन किया जा रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ विरोधी दलों के नेताओं ने कहा कि इसकी कोई जरूरत नहीं। इसके साथ ही, विपक्षी दलों की तरफ से इस हमले के एक साल बाद भी आरडीएक्स पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं।

मो. सलीम बोले- मेमोरियल की नहीं जरूरत

सीपीएम नेता मोहम्मद सलीम ने कहा- हमें मेमोरियल की जरूरत नहीं है, जो हमारी अक्षमता को याद कराए। एक चीज जिसे हमें जानने की जरूरत है वो है कि कैसे 80 किलोग्राम आरडीएक्स इंटरनेशनल बॉर्डर को पार किया, जो धरती पर सबसे ज्यादा आर्मी वाला क्षेत्र है और पुलवामा में विस्फोट हुआ। पुलवामा हमले के इंसाफ की जरूरत है।

नवाब मलिक ने कहा- कहां से आया इतना आरडीएक्स, क्यों नहीं हुई जांच?

उधर, एनसीपी के वरिष्ठ नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने आरडीएक्स की इतनी बड़ी खेप पुलवामा पहुंचने के मामले में कोई जांच न किए जाने पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा- पुलवामा हमले में 40 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए। आज तक कोई जांच समिति नहीं बनाई गई कि कहां से और किस तरह आरडीएक्स से लदी गाड़ी मौके पर पहुंची? गाड़ी का ड्राईवर जेल में है। जांच की जानी चाहिए क्योंकि लोग सच्चाई जानना चाहते हैं।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया