दिल्ली हिंसा: धधकती आग और राख ने बयां किया खौफनाक रात का मंजर, जानें समय-दर-समय का हाल

Updated on: 01 April, 2020 01:28 PM

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध और पक्ष में दो गुटों के बीच झड़प ने ऐसा बवाल मचाया कि प्रदर्शन हिंसक हो गया। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा में अब तक 13 लोगों की जान जा चुकी है और लोग अब भी डर के साए में जी रहे हैं। यमुनापार के इलाकों में सोमवार रात उपद्रवियों ने जमकर उत्पात मचाया। मंगलवार सुबह लोगों ने जब सड़कों पर दूर तक फैली राख देखी तो उनकीं आंखें फटी रह गईं। सड़क किनारे खड़े वाहन, दुकानें, रेस्टोरेंट और पेट्रोल पंप जलकर राख हो चुके थे। चारों ओर धुआं फैला था। मंगलवार दोपहर भी सड़तों पर यही आलम रहा। उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई हिस्सों से भयंकर हिंसा की खबरें आती रहीं। अस्पतालों में मृतकों और घायलों के पहुंचेने का सिलसिला जारी रहा। देर शाम जाकर इलाके में थोड़ी शांति दिखी दी। मगर दिन भर राख ने खौफनाक मंजर बयां किया।

सड़क पर सामान डाल बना दी बैरिकेड, सुबह नौ बजे (मंगलवार)
चांदबाग पुलिया से करावल नगर रोड पर दूर तक आगजनी के बाद जला हुआ सामान पड़ा था। लोगों ने सामान सड़क पर डालकर उसी से बैरिकेड बना दिए थे, जिससे ट्रैफिक बाधित हो रहा था। अर्द्धसैनिक बलों ने इसे हटाकर दोपहिया वाहन निकलने का रास्ता बनाया।

सड़क पर पड़े पत्थर और जला हुआ सामान, राख, मलबा रात को यहां हुई आगजनी की कहानी बयां कर रहा था। जगह-जगह 100 से 200 मीटर की दूरी पर अर्द्धसैनिक बलों का दस्ता आठ से दस की संख्या में खड़ा था। गलियों के आगे खड़े सुरक्षाकर्मी लोगों को भीड़ न लगाने की हिदायत देते नजर आए। कुछ दुकानदार जली हुई दुकान देखने पहुंचे और वहीं बैठ गए।

छत पर चढ़कर लोगों पर पत्थर बरसाए, सुबह 11 बजे (मंगलवार)
मूंगा नगर गली नंबर 5 और 6 के सामने मंगलवार शाम बड़ी संख्या में लोग एकत्रित हो गए। लोगों का आरोप है कि एक स्थानीय नेता की छत पर चढ़कर एक गुट ने दूसरे पर पथराव किया और गोलियां चलाईं। पेट्रोल बम भी फेंके गए। प्रत्यक्षदर्शी रोहित राघव के मुताबिक इस दौरान वहां पुलिस बल सड़क पर नहीं दिखा।


दोनों ओर से फायरिंग, दोपहर 12 बजे (मंगलवार)
मौजपुर मेट्रो स्टेशन के पास मंगलवार दोपहर 12 बजे दोनों पक्ष की तरफ से जमकर पत्थरबाजी हुई। कबीर नगर की तरफ से लगातार फायरिंग की जा रही थी। लोग छतों से फायर कर रहे थे। इस दौरान एक पक्ष के छह लोगों को गोलियां लग गईं। उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया।

दोनों तरफ से लगातार पथराव चलता रहा। दोनों पक्ष एक दूसरे से बचते और पथराव करते नजर आए। पुलिस आंसू गैस के गोले छोड़कर उपद्रवियों को खदेड़ने का प्रयास कर कर रही थी। इसी बीच मुख्य सड़क की एक दुकान में आग लगा दी गई। करीब 2 बजे दोपहर में पुलिस ने एक पक्ष को कबीर नगर की तरफ खदेड़ दिया।

लोगों ने बताया कि बीती रात से अबतक 20 से अधिक लोगों को गोली लग चुकी है। इन लोगों जीटीबी अस्पताल ले जाया गया। सूचना मिलते ही परिजन भी अस्पताल रवाना हो गए। करीब 3 बजे दोपहर भारी संख्या में सीआरपीएफ और आरएएफ बल पहुंचे। पुलिस ने आंसू गैस छोड़कर लोगों को सड़क से हटाया। मौजपुर मेट्रो स्टेशन से कर्दमपुरी तक पूरी सड़क छावनी में तब्दील हो गई। सुरक्षा बलों की मौजूदगी के बाद सड़कों से बवाली गायब हो गए।

आंसू गैस के गोले दागे गए- दोपहर 1 बजे (मंगलवार)
गोकलपुरी में दोपहर एक बजे दोनों पक्ष आमने-सामने थे। एक पक्ष ने एक धार्मिक स्थल में आग लगा दी, जिससे माहौल और खराब हो गया। दोनों पक्ष की तरफ से पथराव और फायरिंग शुरू हो गई। एक मीडियाकर्मी समेत करीब 10 लोगों को गोली लगी।

मीडियाकर्मियों के साथ मारपीट भी कई गई। पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़कर दोनों पक्ष को खदेड़ने का प्रयास किया। हालांकि, करीब दो घंटे के बाद माहौल थोड़ा शांत हुआ।

वाहनों में लगाई आग- दोपहर दो बजे (मंगलवार)
करावल नगर के शिव विहार में दोपहर दो बजे के करीब दोनों पक्ष आपस में भिड़ गए। एक-दूसरे पर पथराव करते हुए सड़क पर खड़ी गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया।

पुलिस लोगों को शांत कराने के लिए आंसू गैसे के गोले छोड़ने लगी। करीब पांच-छह राउंड गोली दागने के बाद दोनों पक्ष के लोग पीछे हटे। इसके बाद भी लोग रुक-रुक पर पथराव करते रहे। लोगों ने बताया कि शेरपुर चौक के पास बीती पूरी रात फायरिंग और पथराव होता रहा। यहां करीब 50 से अधिक वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया। वहीं भजनपुरा समेत आसपास के इलाके में लोग जगह-जगह पथराव और फायरिंग करते नजर आए। सड़क पर खड़ी गाड़ियों में आग के हवाले कर दिया गया। बाजारों में दुकानें बंद रहीं।

भीड़ ने जमकर की तोड़फोड़- 2.30 दोपहर (मंगलवार)
जाफराबाद मेट्रो के पास दोनों पक्ष आमने-सामने थे। दोनों तरफ से रुक-रुक कर पथराव हो रहा था। जब मौजपुर चौक की तरफ के लोग शांत हो रहे थे तो जाफराबाद की तरफ से पथराव होने लगता। हालाकि, पथराव करने वालों की संख्या अधिक नहीं थी। दोनों पक्ष को पुलिस खदेड़कर शांत करा रही थी। शाम को दुकानों में तोड़फोड़ की गई और वाहनों में आग लगा दी गई। जाफराबाद समेत कई इलाकों में रातभर पथराव व फायरिंग हुई ।

घरों को जलाने का प्रयास: 1 बजे रात सोमवार
उत्तरी-पूर्वी दिल्ली के गांव घोंडा और ब्रहमपुरी इलाके में उपद्रवियों ने रात जमकर उत्पात मचाया। भीड़ ने मकानों को जलाने का प्रयास किया और एटीएम तोड़ डाले।

लोगों का आरोप है कि घटना की जानकारी पुलिस को कंट्रोल रूम पर बार-बार दी गई। लेकिन पुलिस कर्मी बार-बार यही कहते रहे कि फोर्स नहीं है। भीड़ ने घोंडा गांव में अखाड़े वाली गली के पास एक दुकान में आग लगा दी। चौहान बांगर की तरफ से गली नंबर दस ब्रहमपुरी में घुसी भीड़ ने लोगों पर पथराव किया।

मौजपुर दिन भर धधकता रहा
मौजपुर इलाका मंगलवार को दिनभर उपद्रव की आग से धधकता रहा। एक तरफ जहां पूरे इलाके में पुलिस का सख्त पहरा रहा तो दूसरी तरफ उपद्रवियों अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे थे। पुलिस और सुरक्षा बलों की टीम भीड़ को तितर-बितर करने में लगी थी तो दूसरी तरफ प्रदर्शनकारी घूम-घूमकर वापस आ जा रहे थे। मौजपुर मेट्रो के पास भी प्रदर्शनकारियों का जमावड़ा बार-बार लग रहा था, जिसे पुलिस और सुरक्षा बल लगातार हटाने में लगे थे।

खुद थामा सुरक्षा का जिम्मा : इलाके में लोग डर के साए में जी रहे हैं। आम लोगों ने इलाके में सुरक्षा का जिम्मा खुद अपने हाथों में थाम लिया है। सुरक्षा के लिए घरों से लोगों की शिफ्ट बनाई जा रही है। हाथों में डंडे लेकर लोगों ने सोमवार रात, मंगलवार दोपहर और रात को सड़कों पर पहरा दिया। लोग अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील कर रहे थे।

दमकल में आग लगाई, बाइक छीनी: मौजपुर में कई दुकानों में आग लगाने की भी खबर मिली है। वहीं कुछ दुकानों में तोड़फोड़ की गई है। फायरकर्मियों ने बड़ी मुश्किल से आग पर काबू पाया। अर्जुन मोहल्ला के रहने वाले एक शख्स ने बताया कि मौजपुर चौक पर प्रदर्शनकारियों ने उसकी बाइक छीन ली। वहीं फायर ब्रिगेड की गाड़ी सहित कुछ अन्य गाड़ियों में आग भी लगा दी गई। दो गाड़ियों में तोड़फोड़ की गई।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया