बारिश से परेशान किसानों का गुस्सा फूटा, हाईवे पर रोका मंत्री का काफिला

Updated on: 14 July, 2020 02:17 AM

बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों की कमर तोड़ दी है। फसल बर्बाद होने से वे काफी परेशान हैं और मुआवजे की मांग कर रहे हैं। चित्रकूट में बड़ी संख्या में किसान सड़क पर प्रदर्शन करते हुए नजर आए। आक्रोशित किसानों ने हाईवे भी जाम कर दिया। तभी प्रभारी मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी का काफिला यहां से गुजर रहा था। किसानों ने मंत्री को भी रोक दिया। इसके बाद मंत्री किसानों के बीच गए और फसल नुकसान की पूरी जानकारी ली। मंत्री नंदी से मुआवजे का आश्वासन मिलने के बाद ही किसानों ने उन्हें मौके से जाने दिया।

दरअसल, शनिवार सुबह झांसी-मिर्जापुर नेशनल हाईवे पर रैपुरा थाना के देउंधा गांव के पास लामबंद किसान प्रदर्शन कर रहे थे। इसी दौरान प्रयागराज से मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी का काफिला यहां से गुजर रहा था। तभी किसानों की इसकी भनक लग गई और उन्होंने मंत्री को सड़क पर रोक दिया। हालांकि उनसे आश्वासन मिलने के बाद किसानों ने उन्हें जाने दिया।

नुकसान की भरपाई के लिए सीएम योगी ने दिए हैं निर्देश

मार्च में कई बार हुई बारिश, ओलावृष्टि और तेज हवा के चलते रबी की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान की भरपाई किसानों को जल्द से जल्द हो इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। कृषि विभाग के अफसरों के अनुसार इस बारिश, ओलावृष्टि और तेज हवा से सबसे ज्यादा नुकसान सरसों की फसल को हुआ है क्योंकि सरसों की फसल या तो कटने वाली थी या कट गई थी या फिर खलिहान में पड़ी हुई थी। इन तीनों ही अवस्था में सरसों की फसल को बहुत नुकसान हुआ है। इसके अलावा नम्बर दो पर मसूर की खेती भी इस बारिश और ओलावृष्टि से बुरी तरह प्रभावित हुई है।

इसके अलावा चने की फसल को भी काफी नुकसान हुआ है। जहां-जहां आलू की खोदाई नहीं हो पाई थी, वहां आलू के खेतों की नालियों में पानी भर जाने की वजह से आलू सड़ जाएगा। इस बार आम की बौर भी बहुत अच्छी आई थी। मगर तेज हवा के साथ बारिश और ओलावृष्टि की वजह से आम की बौर भी जमीन पर बिछ गयी। तेज हवा ने गेहूं की तैयार होती फसल को भी खेतों में बिछा दिया है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया