कोरोना वायरसः काशी विश्वनाथ मंदिर में हैंडवाश से हाथ धोने के बाद ही प्रवेश, दोनों गेट पर लगाए गए कर्मचारी

Updated on: 08 April, 2020 08:14 PM

कोराना की बढ़ती दहशत के बीच द्वादश ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ मंदिर में प्रवेश से पहले अब हैंडवाश से हाथ धोना जरूरी कर दिया गया है। मंदिर में प्रवेश के लिए सुरक्षा जांच से पहले ही हाथ धुलवाया जा रहा है। इसके लिए गेट नंबर चार और पांच पर कर्मचारियों की तैनाती कर दी गई है। फिलहाल इन्हीं दो गेटों से मंदिर में प्रवेश मिल रहा है। गेट के पास ही इस बाबत एक नोटिस भी चिपकाई गई है।

काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन पूजन के लिए देश विदेश से हजारों श्रद्धालु प्रतिदिन आते हैं। कोरोना से बचने का एक मात्र उपाय सतर्कता और सफाई ही है। इसी को देखते हुए शहर दक्षिणी के विधायक और धर्मार्थ कार्य मंत्री नीलकंठ तिवारी के मंदिर प्रशासन को सतर्कता बरतने के निर्देश दिये थे। इसी निर्देश के तहत रविवार से हाथ धुलवाने की व्यवस्था कर दी गई।

मंदिर में फिलहाल गेट नवम्बर 4 और 5 से प्रवेश दिया जा रहा है। ऐसे में इन दोनो गेट से प्रवेश करने वालों सभी श्रद्धालुओं को लाइन लगवाकर पहले हैंडवाश से हाथ धुलवाया जा रहा है। इसके साथ मंदिर के सुविधा केंद्र पर भी कर्मचारियों को ग्लब्स और मास्क लगाने का निर्देश पहले से दिया गया है। हेल्प डेस्क पर हर आधे घंटे पर साफ-सफाई हो रही है।

वहीं, रविवार से विश्वनाथ मंदिर परिसर में स्थित अन्नपूर्णा मंदिर में भी श्रद्धालुओं को दर्शन से पहले सेनेटाइज से हाथ साफ कराया जा रहा है। मंदिर प्रशासन की ओर से सतर्कता को देखते हुए यह व्यवस्था की गई है।

शुक्रवार से काशी विश्वनाथ मंदिर प्रबंधन ने कोरोना से बचाव के लिए हेल्प डेस्क को सेनेटाइज करने शुरू कर दिया था। हेल्प डेस्क ऐसी जगह है, जहां सबसे पहले बाहरी श्रद्धालु आते हैं। विश्वनाथ मंदिर के अवलोकन के लिए जाने से पूर्व टिकट आदि प्रक्रिया यहीं पूरी की जाती है। विश्वनाथ मंदिर के मुख्य गर्भगृह सहित अन्य सभी विग्रहों पर तैनात अर्चक और सेवादार भी मास्क पहनने लगे हैं।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया