एक दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठी एपवा की पूर्व राज्य परिषद सदस्य कामरेड मंजू देवी

Updated on: 04 June, 2020 03:50 AM
चकिया/भाकपा माले महिला विंग अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन (एपवा ) राष्ट्रीय आह्वान पर "महामारी में भूख सांप्रदायिकता और महिलाओं पर जारी हिंसा के खिलाफ "एक दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठी एपवा की पूर्व राज्य परिषद सदस्य कामरेड मंजू देवी ने उन्होंने कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज कर रही नर्सों डॉक्टरों को उनका घर खाली करने के लिए दबाव बनाया जा रहा है ऐसी खबरें पूरे देश से आ रही हैं ,जहां भी प्रवासी मजदूर किराए पर मकान लेकर रह रहे हैं वहां से उनको घर खाली करने को कहा जा रहा है,कोरोना का सांप्रदायिकरण किया जा रहा है और कोरोना के नाम पर मुस्लिम लोगों से भेदभाव किया जा रहा है कोरोना के इस महामारी के दौर में भी महिलाओं पर पुलिस उत्पीड़न और हिंसा जारी है अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन यह मांग करता है कि कोरोना वायरस से एकजुट होकर के ही लड़ा जा सकता है सामाजिक एकजुटता और शारीरिक दूरी ही कोरोना वायरस से लड़ने का एक तरीका है महिलाओं पर हिंसा अगर नहीं रुका तो अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन( एपवा)भविष्य में तीखे आंदोलन के लिए बाध्य होगा अभी तो यह सांकेतिक आंदोलन है | कामरेड मंजू देवी उसरी स्थित अपने घर पर एक दिवसीय भूख हड़ताल पर आरती देवी,कलावती देवी व क्रांति पासवान के साथ लाकडाउन का पालन करते हुए शारीरिक दूरी बनाते हुए बैठी थी|
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया