कोरोना वायरस : उत्तर प्रदेश में 31 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, रात में लागू रहेगी धारा १४४

Updated on: 04 June, 2020 04:42 AM

कोरोना वायरस के कहर को देखते हुए केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन 4.0 की घोषणा कर दी गई है। इस बार केंद्र सरकार ने जोन बांटने और लॉकडाउन के ज्यादातर नियम तय करने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों को दी है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य में 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया है। हालांकि लॉकडाउन-4 में प्रदेश सरकार ने बड़ी राहत देते हुए बाजारों को खोलने का फैसला किया है।

प्रदेश सरकार ने सभी बाजारों को इस तरह खोलने को कहा गया है कि प्रत्येक दिन अलग-अलग बाजार खुलें और सोशल डिस्टेंसिंग व अन्य प्रकार के निर्देशों का पालन कराया जाए। जिला प्रशासन इस संबंध में स्थानीय व्यापार मंडल के साथ बातचीत कर विस्तृत आदेश जिला स्तर से जारी करेंगे। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी की ओर से जारी आदेश को मुख्य सचिव आरके तिवारी ने सोमवार को देर रात सभी जिलों को भेजा। इसमें लॉकडाउन-4 में लागू होने वाले दिशा-निर्देशों और इसमें दी जाने वाली सहूलियतों के संबंध में स्थिति साफ की गई है।



कोरोना वायरस के कहर को देखते हुए केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन 4.0 की घोषणा कर दी गई है। इस बार केंद्र सरकार ने जोन बांटने और लॉकडाउन के ज्यादातर नियम तय करने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों को दी है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य में 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया है। हालांकि लॉकडाउन-4 में प्रदेश सरकार ने बड़ी राहत देते हुए बाजारों को खोलने का फैसला किया है।

प्रदेश सरकार ने सभी बाजारों को इस तरह खोलने को कहा गया है कि प्रत्येक दिन अलग-अलग बाजार खुलें और सोशल डिस्टेंसिंग व अन्य प्रकार के निर्देशों का पालन कराया जाए। जिला प्रशासन इस संबंध में स्थानीय व्यापार मंडल के साथ बातचीत कर विस्तृत आदेश जिला स्तर से जारी करेंगे। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी की ओर से जारी आदेश को मुख्य सचिव आरके तिवारी ने सोमवार को देर रात सभी जिलों को भेजा। इसमें लॉकडाउन-4 में लागू होने वाले दिशा-निर्देशों और इसमें दी जाने वाली सहूलियतों के संबंध में स्थिति साफ की गई है।

रात में लागू रहेगी धारा 144
मुख्य सचिव ने आदेश में कहा है कि शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक किसी भी व्यक्ति या वाहन आदि का आवागमन निषिद्ध रहेगा (केवल आवश्यक गतिविधियों को छोड़कर)। इस संबंध में स्थानीय प्राधिकारी अपने पूरे क्षेत्राधिकार में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा जारी करेगा और इसका कड़ाई से पालन कराएगा।

संवेदनशील व्यक्तियों की सुरक्षा होगी
सभी जोन में 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति, एक से अधिक बीमारियों से ग्रसित व्यक्ति, गर्भवती स्त्रियां और 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे घरों के अंदर ही रहेंगे। वे केवल कभी बाहर निकलेंगे, जब स्वास्थ्य संबंधी आवश्यकताओं के लिए ही जरूरी हो।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया