अच्छे रिटर्न के लिए इक्विटी, सोना और डेब्ट में से बेहतर कौन

Updated on: 12 August, 2020 11:55 AM

एक अच्छा फाइनेंशियल प्लान वह होता है, जिसमें एसेट क्लास की विविधता हो। कम जोखिम और उच्च रिटर्न के लिए आप अपनी उम्र और जरूरतों को ध्यान में रखकर एक अच्छा पोर्टफोलियो बना सकते हैं, जिसमें इक्विटी, डेब्ट, सोना और नकदी भी शामिल हो। नकदी इसलिए ताकि इमरजेंसी में इसका इस्तेमाल किया जा सके। आइए जानें इन चारों के बारे में ताकि आपको एक बेहतर पोर्टफोलियो बनाने में मदद मिल सके...


पिछले एक साल में गोल्ड ने शानदार रिटर्न दिया है। पिछले एक साल में यह 40 फीसद रिटर्न दे चुका है। सोना अभी भी अपने सर्वोच्च कीमत के आसपास बना हुआ है। 16 जुलाई को सोने का भाव 49,318 प्रति 10 ग्राम है। विशेषज्ञों का मानना है कि सोना मुद्रास्फीति की मार को कम करेगा। आमतौर पर वैश्विक उथल-पुथल के समय में इक्विटी और डेब्ट की तुलना में सोना बेहतर प्रदर्शन करता है। आपके पोर्टफोलियो में सोने का होना आपके न केवल नुकसान की भरपाई कर सकता है बल्कि मुनाफा भी दे सकता है।

इक्विटी

सबसे पहले बात इक्विटी की। महंगाई को मात देने के लिए इसमें लंबी अवधि का निवेश एक बेहतर ऑप्शन है पर इसमें जोखिम ज्यादा है। जोखिम का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि शेयर बाजार के हाल के खराब प्रदर्शन ने लंबी अवधि के रिटर्न को भी चोट पहुंचाया है।

ऋण

ऋण या निश्चित आय के लिए, हमने एसबीआई के सावधि जमा रिटर्न को मान लिया है। अधिकांश एचएनआई निवेशक इक्विटी से बैंक एफडी पर स्विच करना चाहते हैं। उनका तर्क है कि महामारी के डर से वे रिटर्न हासिल करने के बजाय अपनी पूंजी बचाना चाहते हैं। वर्तमान में बैंक एफडी रिटर्न अधिकांश इक्विटी फंड की तुलना में बेहतर है।

नकदी: नकदी की जरूरत किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए होती है। हम नकदी के लिए तरल म्यूचुअल फंड श्रेणी के रिटर्न को मान सकते हैं।
नोट: रिटर्न की तुलना केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए है। इन रिटर्न के आधार पर कोई निवेश निर्णय न लें। एक अनुकूलित निवेश योजना प्राप्त करने के लिए आप एक वित्तीय सलाहकार से परामर्श लेकर ही निवेश करें।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया