अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा का आरोप- रूस ने चुराया कोविड-19 का वैक्सीन रिसर्च

Updated on: 12 August, 2020 12:29 PM

अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने रूस पर आरोप लगाया है कि वह दुनिया भर में फैली महामारी कोरोना वायरस के वैक्सीन अनुसंधान चुराने की कोशिश कर रहा है। वायरस ने 5,85,000 से अधिक लोगों को मार दिया है, 13.6 मिलियन से अधिक लोग संक्रमित हैं और पिछले साल के अंत में इस वायरस ने उभरने के बाद से वैश्विक अर्थव्यवस्था को अपंग कर दिया है। दुनिया की उम्मीदें इसकी वैक्सीन पर टिक गई हैं। इधर, ब्राजील ने घोषणा की कि यह दो मिलियन पुष्ट मामलों को पार कर गया है।

ब्रिटिश मीडिया ने गुरुवार को बताया कि ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के एक परीक्षण ने अपने प्रोटोटाइप वैक्सीन से वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न की है। लेकिन घंटों बाद ब्रिटेन के राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा केंद्र ने कहा कि APT29 नामक एक हैकिंग समूह ने मूल्यवान बौद्धिक संपदा की चोरी करने के लिए वैक्सीन अनुसंधान करने वाली ब्रिटिश प्रयोगशालाओं को टारगेट किया था।

एजेंसी ने कहा कि यह ये लगभग (95%) निश्चित है कि APT29 रूसी खुफिया सेवाओं का हिस्सा हैं और इसके शोधकर्ताओं का लक्ष्य COVID-19 वैक्सीन अनुसंधान पर जानकारी एकत्र करना था। अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा सभी ने संयुक्त सुरक्षा सलाहकार में रूस पर आरोप लगाया।

मास्को ने क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव के साथ यह कहते हुए किसी भी संलिप्तता से इनकार किया रूस का इन प्रयासों से कोई लेना-देना नहीं है। यह विवाद तब आया जब एक टीका की आवश्यकता को ब्राजील के साथ एक बार फिर रेखांकित किया गया, जो दुनिया का दूसरा देश ऐसा देश है जो कोरोना को बुरी तरह झेल रहा है। यहां दो मिलियन कोरोना वायरस मामले सामने आए हैं। देश में दर्ज होने वाली मौतों की संख्या अब 76,000 से अधिक है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया