अध्यात्म/धर्म

भगवान शिव को समर्पित है यह अमावस्या, बड़े भाग्य से आता है यह दिन

Updated on: 01 June, 2019 03:45 PM

सोमवार को आने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहा जाता है। यह अमावस्या वर्ष में एक या दो बार ही आती है। पांडव पूरे जीवन तरसते रहे, परंतु उनके जीवन में सोमवती अमावस्या नहीं आई। ग्रंथों में कहा गया है कि सोमवार को अमावस्या बड़े भाग्य से ही आती है। इस अमावस्या का विशेष महत्व है। विवाहित स्त्रियों द्वारा पतियों की दीर्घायु कामना के लिए इस व्रत का विधान है। इस दिन मौन व्रत रहने से सहस्र गोदान का फल प्राप्त होता है।

सोमवार चंद्रमा का दिन है। इस अमावस्या को सूर्य तथा चंद्र एक सीध में रहते हैं। इसलिए यह पर्व विशेष पुण्य देने वाला...

और पढ़ें »

राशिफल: जानें क्या कहते हैं 16 मई को आपके सितारे

Updated on: 15 May, 2019 03:54 PM

राशिफल: जानें कैसा रहेगा आपका 16 मई का दिन

मेष- वाणी में कठोरता का प्रभाव हो सकता है। माता को स्वास्थ्‍य विकार हो सकते हैं। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा।

वृष- माता का सानिध्य मिलेगा। मन विचलित रहेगा। जीवनसाथी को स्वास्थ्‍य विकार हो सकते हैं।

मिथुन- दिमागी तनाव बढ़ सकता है। सन्तान से सुख प्राप्ति होगी। पिता का सहयोग मिलेगा। घरेलू समस्या बढ़ सकती है।

कर्क- धैर्यशीलता में कमी रहेगी। वाहन सुख में वृद्धि होगी। शैक्षिक एवं बौद्धिक कार्यों में व्यवधान आएंगे।

सिंह- किसी पैतृक सम्पत्ति का लाभ हो सकता है। कारोब...

और पढ़ें »

13 अप्रैल तक चलेंगी नवरात्रि, देखें मां दुर्गा के 9 रूप

Updated on: 06 April, 2019 12:36 PM

चैत्र नवरात्रि 2019 का आज पहला दिन है। इंटरनेट पर लोग इसे अप्रैल नवरात्रि 2019 भी कह रहे हैं। हिन्दू कैलेंडर का नया साल आज के ही दिन शुरू होता है। हिन्दू कैलेंडर का पहला माह चैत्र होता है और चैत्र का पहला दिन शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को माना जाता है। नवरात्रि 2019 पर्व का पहला दिन प्रतिपदा के रूप में पांच अप्रैल को दोपहर 2:20 बजे से प्रारम्भ हो गया जो छह अप्रैल को अपराह्न 3:24 बजे तक रहेगा। इसमें पांच बार सर्वार्थसिद्धि योग बन रहा है। माता घोड़े पर सवार होकर आ रहीं हैं। विक्रमी संवत 2076 हिंदू नववर्ष भी इसी दिन से आरंभ होगा। नवरात्र में पांच सर्वार्थ ...
और पढ़ें »

मैया के नवरात्रि बुधवार से, जान लें कब करनी है घट स्थापना

Updated on: 09 October, 2018 01:56 PM

इस साल शरद नवरात्रि का शुभारंभ चित्रा नक्षत्र में मां जगदम्बे के नाव पर आगमन से शुरू हो रहा है। इस बार प्रतिपदा और द्वितीया तिथि एक साथ होने से मां शैलपुत्री और मां ब्रह्मचारिणी की पूजा एक दिन होगी। ज्योतिषीय गणना के अनुसार 10 अक्टूबर को प्रतिपदा और द्वितीया माना जा रहा है। पहला और दूसरा नवरात्र दस अक्तूबर को है। दूसरी तिथि का क्षय माना गया है। अर्थात शैलपुत्री और ब्रह्मचारिणी देवी की आराधना एक ही दिन होगी। इस बार पंचमी तिथि में वृद्धि है। 13 और 14 अक्तूबर दोनों दिन पंचमी रहेगी। पंचमी तिथि स्कंदमाता का दिन है। नाव पर आएंगी शेरोव...
और पढ़ें »

रक्षा बंधन 2018: इस बार नहीं है भद्रा, यह है राखी बांधने का शुभ मुहूर्त

Updated on: 21 August, 2018 11:33 AM

भाई-बहन के प्रेम का त्योहार रक्षा बंधन श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस बार यह 26 अगस्त रविवार के दिन है। ज्योतिष के अनुसार इस बार रक्षा बंधन पर भद्रा नहीं हैं। यही नहीं इस बार करीब 11 घंटे तक राखी बांधने का मुहूर्त है।

दरअसल ज्योतिष के मुताबिक इस बार भद्रा नक्षत्र सूर्योदय से पहले ही खत्म हो रही है। इसलिए राखी बांधने के समय भद्रा नहीं रहेगा। ज्योतिष के मुताबिक भद्रा में राखी नहीं बांधी जाती।

राखी बांधने का मुहूर्त: शुभ मूहुर्त सुबह 5:59 बजे से शाम 5:25 बजे तक

इस बार बहने शाम 5 बजकर 12 मिनट तक राखी बांध सकती हैं। ...

और पढ़ें »

सावन 2018: सावन का आखिरी सोमवार आज, इन चीजों से करें शिव का जलाभिषेक

Updated on: 20 August, 2018 02:15 PM

सावन महीने का आखिरी सोमवार आज है। इस दिन ज्येष्ठा नक्षत्र और वैधृतियोग में शिव का जलाभिषेक करना अत्यंत लाभकारी होगा। इस दिन धन और संतान की इच्छा रखने वाले लोगों को भगवान शिव की अभिषेक करना चाहिए। अभिषेक के लिए जल दुग्ध अक्षत काला तिल और जौ डाल कर महादेव का अभिषेक करें और ॐ गौरिशंकराय नमः मंत्र का जाप करें।

इन चीजों से जलाभिषेक करने का होगा फायदा

भवन-वाहन के लिए दही से रुद्राभिषेक करें।

लक्ष्मी प्राप्ति के लिए गन्ने के रस से रुद्राभिषेक करें।

धन-वृद्धि के लिए शहद एवं घी से अभिषेक करें।

तीर्थ के जल से ...

और पढ़ें »

अक्षय तृतीया पर दान का होता है विशेष महत्व, जानें क्या है मान्यता

Updated on: 14 April, 2018 02:05 PM

वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृतीया के नाम से जाना जाता है इस बार यह तृतीया 18 अप्रैल को है। हिन्दू धर्म में इस तिथि को बहुत शुभ माना जाता है। इस दिन लोग नए-नए सामान खरीदते हैं और शुभ काम की शुरुआत करते है। माना जाता है कि इस तिथि पर भगवान विष्णु ने परशुराम के रूप में धरती पर छठा अवतार लिया था। इस दिन धन की देवी लक्ष्मी मां की पूजा भी जाती है। साथ ही माना जाता है कि इस दिन अन्न की देवी अन्नपूर्णा का जन्म हुआ था इसलिए इस दिन रसोई की सफाई कर देवी अन्नपूर्णा की पूजा की जाती है। इस दिन दान का भी विशेष महत्व होता है।
अक्षय तृती...

और पढ़ें »

नवमी के पूजन के समय नौ कन्याओं के साथ हो एक 'लंगूर', करें रामचरित मानस का पाठ

Updated on: 24 March, 2018 12:53 PM

नवरात्रि के दिनों में लोग व्रत रखते है और इसके आखिरी दिन राम नवमी मनाई जाती है। इस बार अष्टमी और नवमी एक ही दिन है यानी 25 मार्च को। नवरात्रि में नौ दिनों तक मां दुर्गा के 9 रूपों को पूजा की जाती है। मां को प्रसन्न करने के लिए लोग व्रत रखते हैं, पूजा-पाठ करते हैं, कन्या पूजन भी करते है। कन्या पूजन के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है।

हिंदू धर्म के अनुसार नवरात्रों में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। मां भगवती के भक्त अष्टमी या नवमी को कन्याओं की विशेष पूजा करते हैं। 9 कुंवारी कन्याओं को सम्मानित ढंग से बुलाकर उनके पैर धोकर कर आसन पर बैठ...

और पढ़ें »

चैत्र नवरात्रि 2018: इस साल भी आठ दिन के होंगे नवरात्रि, ये दोनों तिथि पड़ रही हैं एक दिन

Updated on: 05 March, 2018 04:41 PM

साल में दो बार नवरात्रि आते हैं पहले चैत्र नवरात्र और दूसरे शारदीय नवरात्र। इसके अलावा गुप्त नवरात्रि पर भी लोग मां दुर्गा की पूजा अर्चना करते हैं। गर्मियों की शुरूआत में आने वाले चैत्र नवरात्रि का भी अपना विशेष महत्व है। दरअसल चैत्र नवरात्र से नववर्ष के पंचांग की गणना शुरू होती है। नवरात्रि के नौ दिन मां के अलग-अलग स्वरुप की पूजा की जाती है। इस बार नवरात्रि 18 मार्च से शुरू हो रहे हैं।

18 मार्च से शुरू होने वाले नवरात्रि 25 मार्च तक चलेंगे। 25 मार्च को अष्टमी और नवमी तिथि एक ही दिन हो रही है। दरअसल प्रतिपदा तिथि 17 मार्च को शाम स...

और पढ़ें »

महाशिवरात्रि 2018: कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए शिवरात्रि पर करें ये उपाय

Updated on: 08 February, 2018 01:17 PM

इस बार महाशिवरात्रि कई जगह 13 फरवरी और कई जगह 14 फरवरी दो दिन मनाई जा रही है। भगवान शिव के मंदिरों में भक्त सुबह से लाइन लगाकर खड़े हो जाते हैं। कहा जाता है कि इस दिन भोले शंकर और माता पार्वती का विवाह हुआ था। इस दिन शिवलिंग पर  भगवान शिव को प्रिय चीजें चढ़ाते हैं। इसके अलावा कुंवारी कन्याएं अच्चा पति पाने के लिए इस दिन विशेष पूजा अर्चना करती हैं। यही नहीं इस दिन कालसर्पयोग से मुक्ति के लिए भी विशेष उपाय किए जाते हैं। यहां हम आपको बता रहे हैं

कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए इस दिन विशेष पूजा अर्चना की जाती है। इस दिन कालसर्प दोष से ...

और पढ़ें »

रामसेतु: वैज्ञानिकों का दावा- भारत-श्रीलंका के बीच बना पुल मानव निर्मित, जानें और भी रहस्य

Updated on: 12 December, 2017 12:50 PM

रामसेतु: वैज्ञानिकों का दावा- भारत-श्रीलंका के बीच बना पुल मानव निर्मित, जानें और भी रहस्यभारत के दक्षिण-पूर्वी तट के किनारे तमिलनाडु स्थित रामेश्वरम द्वीप और श्रीलंका के उत्तर-पश्चिमी तट मन्नार द्वीप के बीच चूना पत्थर से बनी एक श्रृंखला आज भी एक रहस्य बना हुआ है। हिन्दू पौराणिक कथाओं में इसे रामसेतु पुल बताया गया है। आइये बताते है इस पुल को लेकर भू-वैज्ञानिकों ने क्या निष्कर्ष निकाला है और उनका क्या दावा है-
1-    भू-वैज्ञानिकों ने नासा की तरफ से ली गई तस्वीर को प्राकृतिक बताया है।
2-    वैज्ञानिकों ने अपने विश्लेष...

और पढ़ें »

बृहस्पति अस्त,18 दिन बाद होंगे शुभ कार्य, जानिए कब है शादी का मुहूर्त

Updated on: 27 October, 2017 12:32 PM

आषाढ़ महीने के शुक्‍ल पक्ष की एकादशी को देवशयनी एकादशी कहते हैं और कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी कहते हैं। देवशयनी एकादशी से देवउठनी एकादशी तक यानी चार महीने भगवान विष्णु शयनकाल की अवस्था में होते हैं और इस दौरान कोई शुभ कार्य जैसे, शादी, गृह प्रवेश या कोई भी मांगलिक कार्य नहीं किया जाता है। 31 अक्टूबर को भगवान का शयनकाल खत्म होगा और इसके बाद ही कोई शुभ कार्य होगा। कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष की ग्यारस के दिन देवउठनी ग्यारस होती है। इस एकादशी को प्रबोधनी ग्यारस भी कहा जाता है। ये एकादशी दिवाली के 11 दिन बाद आती है. ...

और पढ़ें »

छठ पूजा 2017: खरना आज, व्रती रखेंगे 36 घंटे का उपवास, जानें शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

Updated on: 25 October, 2017 12:39 PM

सूर्योपासना अनुष्ठान का महापर्व छठ मंगलवार से नहाय खाय के साथ प्रारंभ हो गया। छठव्रती स्नान, ध्यान के साथ अरवा चावल, चना दाल और कद्दू की सब्जी बनाकर ग्रहण किया। घर के सदस्यों ने भी प्रसाद ग्रहण किया। इसके साथ ही छठव्रतियों का उपवास भी प्रारंभ हो गया है। दूसरी ओर छठव्रतियों के द्वारा खरना की प्रसाद के लिए गेंहु आदि धोकर सुखाने का काम किया। वहीं दूसरी ओर पतरातू के चारों ओर छठ मईया के गीत गूंज रहे हैं।

पूजन विधि

आज इसका दूसरा दिन है इस दिन खरना व्रत की परंपरा निभाई जाती है। इस मौके पर महिलाएं दिन भर उपवास करती हैं और शाम ...

और पढ़ें »
  Page: 1   2   3     Next »    Last

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया